आप राष्ट्रीय देसी गौपालन प्रशिक्षण शिविर में क्यों आएं?

कामधेनु गौशाला राष्ट्रीय देसी गौपालन प्रशिक्षण शिविर का आयोजन करने जा रहा है। देसी गौ उत्पादों की भारत में मांग बढ़ती जा रही है। यही वो समय है जब देश में हज़ारों-लाखों युवकों को रोजगार प्राप्त हो सकता है।


अगर भारत के युवा देसी गौपालन में आएंगे तो एक तो उन्हें रोजगार मिलेगा और दूसरा देसी गौ अपने आप संरक्षित हो जाएंगी। वैसे तो गौपालन भारत में सदियों से होता आ रहा है। लेकिन अभी भी बहुत कुछ जानना शेष है। कामधेनु गौशाला में होने जा रहे प्रशिक्षण शिविर में आप एक विलक्षणता को देखेंगे।

 


अक्सर हमने देखा है की देश के विख्यात गौ वैज्ञानिक अनुसंधान केंद्रों में अनुसंधानों में व्यस्त रहते हैं, और किसान अपने खेत या गौ माता के साथ रहता है। गौ के पास रहने वाले किसान को गौ माता बहुत कुछ सिखा देती है। वो अनुभव उसका निजी अनुभव होता है।

 


लेकिन हमारे देश के अनुसंधान केंद्रों में बहुत से ऐसे वैज्ञानिक हैं जो गौपालन को नई दिशा देने के लिए दिन-रात प्रयास कर रहे हैं। ऐसे कर्मठ वैज्ञानिकों ने अनेक तरीके और अविष्कार किये हैं जो गौपालन को सुगम एवं कुशल बना सकते हैं। ऐसा बहुत कम देखने को मिलता है जहाँ किसान और वैज्ञानिक दोनों एक ही जगह इकठ्ठे हों और अपना-अपना ज्ञान एक दूसरे से साथ बांटें।

 


राष्ट्रीय स्तर के इस प्रशिक्षिण शिविर में आपको किसान और वैज्ञानिकों का प्रयाग देखने को मिलेगा। यहाँ पर गौ वैज्ञानिक, किसानों के अनुभवों, उन्हें आ रही दिक्कतों को नज़दीक से देख पाएंगे और किसान गौ वैज्ञानिकों का संग प्राप्त कर गौ विज्ञान को जानकर गौपालन की नई राहों पर कदम बढ़ाएंगे ।

आप बेसब्री से राष्ट्रीय देसी गौपालन प्रशिक्षण शिविरकी तिथि का इंतज़ार कर रहे हैं। आपमें से हज़ारों गौभक्तों ने इस प्रशिक्षण फार्म को भरकर भेज दिया है। गौपालन के प्रति आपकी उत्सुकता को देखकर मन बहुत प्रसन्न है। देश में देसी गायों को पालने का जज़्बा पुनः से पैदा हो गया है, यह बात आत्मिक शांति प्रदान कर रही है।

हम आपके लिए दो तरह के शिवरों का आयोजन करने जा रहे हैं। एक शिविर 5 दिवस का होगा और दूसरा 10 दिन का होगा। इन दोनों तरह के शिविरों में गौपालन से जुड़ी आवश्यक जानकारियाँ (प्रैक्टिकल और थ्योरी) विस्तृत रूप में समझाई जाएँगी। यह बात स्वाभाविक है कि 10 दिवसीय शिविर में आप ज़्यादा ज्ञान अर्जित कर सकेंगे। वैसे तो गौपालन की संपूर्ण जानकारी प्राप्त करने के लिए 10 दिन बहुत कम हैं लेकिन फिर भी हम इन 10 दिनों में गागर में सागर भरने का प्रयास करेंगे। इस शिविर में गौपालन से जुडी छोटी और बड़ी सभी जानकारियों को बहुत ही विस्तृत ढंग से आपके समक्ष रखा जायेगा। यह शिविर गौपालन कर रहे या गौपालन शुरू करने जा रहे गौपालकों को मूलभूत जानकारी प्रदान करेगा। कुछ जानकारियां शिक्षार्थिओं को क्लासरूम में बताई जाएगी और बाकी गौ माता के पास जाकर प्रैक्टिकल रूप में समझाई जाएँगी।  

वैसे तो आप सभी सोशल मीडिया के माध्यम से कामधेनु गौशाला में हो रहे गौपालन को देखते रहते हैं लेकिन इन शिविरों में आपको कामधेनु गौशाला में हो रहे गौपालन को अच्छे से देखने और समझने का मौका मिलेगा।  

एक निवेदन मेरा आपसे यह है कि यह संभव नहीं है कि आप सभी को हम पहले शिविर में ही बुला पाए। ऐसा भी हो सकता है कि आपको पहले शिविर में ही बुलावा आ जाये। लेकिन अगर आपका नंबर पहले शिविर में किसी कारण नहीं आ पाता तो आप दूसरे शिविर की बुकिंग करवा सकते हैं। हम यहाँ एक सम्पर्क सूत्र भी लिख रहे हैं जहाँ से आपको प्रशिक्षण शिविर से संबंधित हर प्रकार की जानकारी मिलेगी। राष्ट्रीय स्तर के इस प्रशिक्षण शिविर में भाग लेने वाले गौपालकों को सर्टिफिकेट भी दिया जायेगा। हमें आप सबका इस प्रशिक्षण शिविर में इंतज़ार रहेगा।

धन्यवाद  

सम्पर्क सूत्र:- 95921-47300, 70152-69414

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *