जानें बिहार के इस मंत्री ने क्यों की साहीवाल गायों की तारीफ?

बिहार में भी साहीवाल गायों को पालने की लगन लग चुकी है। पिछले दिनों बिहार सरकार के कृषि मंत्री श्री प्रेम कुमार जी के साथ कामधेनु गौशाला के प्रतिनिधिओं की विस्तृत मुलाकात हुई। मंत्री जी दिव्य ज्योति जाग्रति संस्थान की कामधेनु गौशाला की गतिविधिओं को देख कर बहुत प्रभावित हुए। उन्होंने हमें बताया कि बिहार की ब्रीडिंग पालिसी ( Breeding Policy ) में भी उन्होंने साहीवाल को रखा है। मंत्री जी साहीवाल को बिहार के घर घर में पहुंचने के लिए वचनबद्ध थे। उन्होंने कहा कि मैं  पंजाब नूरमहल कामधेनु गौशाला में आऊंगा और वहां हो रहे सभी कार्यो को ध्यान पूर्वक देखूंगा। 

Agriculture Minister Bihar Conversation about Sahiwal

Agriculture Minister Bihar Conversation about Sahiwal

कामधेनु गौशाला ने भी इस पुनीत कार्य के लिए उन्हें हर संभव सहयोग देने का आश्वासन दिया।

अगर सभी राज्य सरकारें केंद्र सरकार की तरह अपनी क्षेत्रीय देसी गायों की नस्लों और साथ-साथ दूसरी दुधारू गायों जैसे कि साहीवाल की और अपने कदम बड़ा लें तो वो दिन दूर नहीं जब भारत में देसी गायों के दूध की नदियाँ बहेगी।

Agriculture Minister Bihar Conversation about Sahiwal

आप यहाँ इस वीडियो को जरूर देखें। पटना में एक गौपालक ने साहीवाल की बहुत अच्छी गायें रखी हुई हैं। अगर एक गौपालक ऐसा कर सकता है तो फिर पूरा बिहार क्यों नहीं कर सकता-

भारत सरकार की साहीवाल गायों के प्रति रूचि 

भारत सरकार ने देसी गायों को बढ़ाने के लिए बहुत बड़े स्तर के ऊपर फैसले लिए हैं। भारत सरकार ने राज्यों को भी देसी गायों को बढ़ाने हेतु प्रस्ताव पेश किए हैं। राज्य सरकारें केंद्र सरकार की सिफारिशों को मद्दे-ए-नज़र रखते हुए वहां के गोवंश को बढ़ाने हेतु प्रयास कर रही हैं।


Cross breeding policy के दुष्परिणाम 

विडंबना यह है कि पिछले 70 सालों से देसी गायों की संख्या कम होती जा रही है। इसका कारण क्रॉस ब्रीडिंग पॉलिसी (Cross breeding policy) रही है। सभी को मिलकर अब बड़े स्तर पर प्रयास करने होंगे, फिर ही हम पूरे देश में देसी गायों की संख्या को लाखों में कर पाएंगे। बिहार सरकार इस विषय में बहुत गंभीर है क्योंकि मंत्री जी की बातों से यह स्पष्ट हो गया था कि वह बिहार की क्षेत्रीय नस्ल बछौर के साथ साथ साहिवाल को भी बहुत बड़े स्तर पर बिहार में फ़ैलाने के लिए तैयारी कर रहे हैं। कामधेनु गौशाला के प्रतिनिधियों ने प्रेम कुमार जी को  कुछ बिंदुओं के ऊपर पहले काम करने की सलाह दी। मंत्री जी ने यह आश्वासन दिया कि हम इन बिंदुओं के ऊपर पहले काम शुरू करेंगे।


आपको हमारा यह आर्टिकल अच्छा लगा है तो आप इसे अपने दोस्तों से साँझा करें-
देसी गायों पर लिखे गए ऐसे आर्टिकल पड़ने के लिए आप यहाँ क्लिक करें- 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *